Women"s Health-Fertility & Weight Issues in PCOS Can Be Treated by BALLOONS In Near Future - HEALTH CORNER FOR ALL

Health, Beauty Tips, Fitness, Weight Loss, Ayurveda, Yoga, Overall Health....

Thursday, August 16, 2018

Women"s Health-Fertility & Weight Issues in PCOS Can Be Treated by BALLOONS In Near Future


                                                                               For the ENGLISH VERSION scroll down |

Polycystic Ovarian Syndrome / पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (PCOS / पीसीओएस) आमतौर पर एक Hormonal या endocrinal समस्या है जो, विशेष रूप से 15 से 55 वर्ष के आयु वर्ग की महिलाओं को प्रभावित करती है। इस सिंड्रोम में, अंडाशय मे गाँठों / cyst का निर्माण हो जाता है जिससे कि ovulation सही प्रकार से नहीं हो पाता है।



"Women"s Health- Fertility & Weight Issues in PCOS (Polycystic Ovarian Syndrome) Can Be Treated by BALLOONS In Near Future"




Fertility in PCOS treated with Balloon
PCOS- Fertility & Weight Issues Can Be Treated by BALLOONS  In Near Future

ऐसी महिलाओं में कई प्रकार कि जटिलताएं देखने को मिलती हैं जैसे की मोटापा / obesity ,प्रतिकूल प्रजनन / infertility , प्रतिकूल उयापचय/ metabolic disturbances और प्रतिकूल मनोवैज्ञानिक स्तिथि  / mood swings ,शरीर पर बालों का होना आदि के होने की अधिक संभावना रहती है।

Polycystic Ovarian Syndrome / पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम की बीमारी से पीड़ित मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण इसके इलाज के लिए दवाइयों की खोज में तेज़ी लायी जा रही है, जिससे कि इस बीमारी से होने वाले complications और infertility की समस्या से निजात पाया जा सके  ।

गर्म पानी से भरा एक छोटा गुब्बारा लाखों महिलाओं में प्रजनन क्षमता में कमी / infertility की समस्या के साथ -साथ अन्य समस्याओं को दूर करने में भी मदद कर सकता है।

ऐसी उम्मीद की जा रही है कि यह radical treatment पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (PCOS) के कारण होने वाले मुँहासे / acne, चेहरे पर बालों के उगने और वजन बढ़ने / obesity आदि समस्याओं के निदान में भी मदद करेगा।


आंकड़ों के मुताबिक यह ऐसी स्थिति है जिसका सामना हर पांच में से एक महिला को करना पड़ रहा है।


Imperial College London, में इस clinical research / परीक्षण के लिए 30 मरीजों की भर्ती की जा रही है, ताकि यह देखा और प्रमाणित किया जा सके कि क्या वाकई चावल के दाने के बराबर बड़े इन तथाकथित गुब्बारों या गेंदों से PCOS/ पीसीओएस का इलाज संभव है - जो कि पूरे विश्व में बांझपन का एक प्रमुख कारण है । यदि यह परीक्षण जो कि, 2019 की गर्मियों तक पूरा होने की सम्भावना है सफल होता है, तो यह एक बहुत ही बड़ी उपलब्धि होगी।


क्यूंकि इस पचार से जो केवल एक घंटे के समय में किया जा सकेगा,उसके द्वारा PCOS से प्रभावित महिलाओं में गर्भावस्था दर/

pregnancy rates को बदलने में क़ाफी हद तक सफलता सकेगी।

यह प्रक्रिया शरीर में इंसुलिन / insulin की प्रतिक्रिया में सुधार के लिए डिज़ाइन की गई है। 

क्यूंकि 70% मामलों में,  PCOS को इंसुलिन प्रतिरोध / insulin resistance से जुड़े हुआ पाया गया है,जिसमें शरीर की कोशिकाएं insulin hormone के लिए कम संवेदनशील होती है।

यह भी पढ़ें :
PCOD PCOS (PolyCystic Ovarian Disease) के बारे में वो हर बात जो एक महिला को होनी चाहिए पता | PCOD PCOS -Symptoms, Causes, Treatment In Hindi


यह hormone  मांसपेशियों / muscles को blood से glucose अवशोषित करने में मदद करता है जिसका उपयोग मांसपेशियां fuel/ ईंधन के रूप में  करती है।

Insulin resistance / प्रतिरोध के बढ़ने के फलस्वरूप  pancreas अधिक मात्रा में  इंसुलिन / insulin उत्पन्न करना शुरू कर देता है,

यह insulin महिलाओं के शरीर में जमा होने लगता है, और male hormone Testosterone के स्तर को बढ़ा देता है जिससे कि वजन बढ़ने, मुँहासे और कई अन्य विकार उत्पन्न होते हैं PCOS से प्रभावित महिलाओं में ।

Insulin resistance और उससे male hormones के अधिक स्त्राव के कारण ही महिलाओं में ovulation का दर कम हो जाता है कभी कभी तो यह दर 0 भी हो जाता है।


लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है कि इन inflatable गेंदों / गुब्बारों का उपयोग सामान्य मासिक चक्रों को बहाल करने में मदद कर सकता है, जिसके फलस्वरूप वे PCOS के साथ महिलाओं में गर्भावस्था / pregnancy की संभावनाओं को मजबूत कर सकते हैं।

वर्तमान समय में PCOS रोगियों को वजन कम करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता रहा है (क्यूंकि बढ़ता हुआ वजन इंसुलिन संवेदनशीलता / Insulin resistance को प्रभावित करता है), या फिर ऐसे रोगियों में मेटाफॉर्मिन /Metformin जैसी diabetes / मधुमेह की दवाओं के साथ उपचार किया जाता रहा है ।

इस इलाज़ में प्रयोग में लाये जाने वाला Balloon रोगी की आतों की कुछ परत / lining को जला देता है।

इस इलाज़ में doctor रोगी के गले में एक पतली ट्यूब डालते हैं जिसके एक सिरे पर डिफ्लेटेड सिलिकॉन गुब्बारा छोटा गुब्बारा / deflated silicon balloon लगा रहता है।

जब यह गुब्बारा डुओडेनम/ duodenum के foot  तक पहुंच जाता है - यह वो हिस्सा होता है जहां हमारा अधिकांश भोजन पचता है - तब इसे फुलाया जाता है और गर्म पानी उसके माध्यम से पंप हो जाता है। 

आंत में दबाव बढ़ता है, और गेंद आसपास के ऊतक / tissue से गुजरती हैं। तथा यह Insulin resistant tissues को जला देता है।

पहले से ही टाइप II मधुमेह के इलाज के लिए किया जा रहा है क्योंकि पृथक्करण की तकनीक नई कोशिकाओं को बनाने के लिए इंसुलिन के प्रतिरोधी बनने वाली कोशिकाओं को जलाने में मदद करती है।



इस device को रेविटा / Revita के नाम से बुलाया जाता है, यह डिवाइस या इस तकनीक का उपयोग पहले से ही टाइप 2 मधुमेह / Type II Diabetes के लिए किया जाता रहा है।

क्योंकि यह तकनीक इंसुलिन प्रतिरोधी बन गयी कोशिकाओं को जलाने में मदद करती है।

ऐसा करने से यह तकनीक ऐसी नई कोशिकाओं को बनाने की अनुमति देती है जो इंसुलिन प्रतिरोधी नहीं हैं।


जिसके फलस्वरूप डायबिटीज में, इस तकनीक से ग्लूकोज के स्तर को कम करने और परिसंचरण/ circulation में सुधार देखा जाता है

जिससे स्ट्रोक/ stroke और दिल के दौरे / Heart Attack के खतरे को कम किया जाता है।

वैज्ञानिकों को आशा है कि, PCOS / पीसीओएस में, यह तकनीक ovulation में वृद्धि करेगी - मासिक धर्म चक्र में बिंदु जब अंडे अंडाशय से मुक्त होता है - और गर्भधारण / pregnancy की संभावनाएं बढ़ाने में मदद मिलेगी।

Endocrinologist Dr. Alex Miras, जो कि इस शोध करने वली वैज्ञानिकों की टीम के सदस्य हैं - उनका कहना है इस शोध में 18 -45 वर्ष की ऐसे महिलाओं को चुना गया है जिनको PCOS के कारण अनियमित मासिक चक्र / irregular periods की दिक्कत है और जिनमे insulin resistance भी मौजूद है परन्तु diabetes की बीमारी नहीं है।

Dr. Alex Miras - का कहना है की absence of periods / मासिक धर्म का न होना fertility में 80 % की कमी लाता है,परन्तु insulin resistance का इलाज़ करने पर periods या मासिक धर्म चक्र फिर से शुरू हो जाता है। इसलिए इस इलाज़ से सम्भावना है कि fertility की दर को बढ़ाया जा सकेगा

डॉक्टरों ने भी इस शोध की प्रति अपनी सकरात्मक राय दी है क्यूंकि, यह तकनीक Type II Diabetes के मरीज़ों में positive results देती है इसलिए आशा की जा रही है कि PCOS के रोगियों में जिनमे Insulin resistance की समस्या उनमे भी ये सकारत्मक परिणाम देकर उन महिलाओं में Pregnacy Rate और Fertility Rate को बढ़ाएगी।


दोस्तों आशा करते हैं यह शोध सफ़ल हो और एक PCOS से ग्रसित महिलाओं के जीवन में आशा की नयी किरण के रूप में यह तकनीक सामने आये। यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो share करना न भूलें।

"Women"s Health-Fertility & Weight Issues in PCOS Can Be Treated by BALLOONS In Near Future"


The radical treatment is likewise anticipated that would treat skin break out, facial hair development and weight pick up caused by polycystic ovary disorder (PCOS), a condition that influences one of every five ladies in the UK.

Thirty patients are being enrolled to a clinical preliminary at Imperial College London to check whether the inflatable, no greater than a grain of rice, could fix PCOS — a noteworthy reason for barrenness.

In the event that the preliminary, because of finish in summer 2019, is fruitful, the treatment, which takes a little more than 60 minutes, could change pregnancy rates among ladies with PCOS.

The methodology enhances the manner in which the body responds to insulin. Around 70 for every penny of PCOS cases are because of insulin opposition, where the body's cells turned out to be less touchy to the hormone that enables muscles to assimilate sugar from the blood to use as fuel.

As this obstruction constructs, the pancreas — the organ in the stomach area which makes insulin — responds by drawing out significantly a greater amount of it.

At the point when insulin gathers in the female body, it can expand testosterone and prompt weight pick up skin inflammation and hirsutism. This hormonal interruption can slice the circumstances a lady ovulates from around 12 times each year to, at times, zero.

In any case, researchers trust that by utilizing the inflatable to reestablish typical menstrual cycles, they can reinforce the odds of pregnancy in ladies with PCOS.

Current methodologies incorporate urging patients to get more fit (as weight pick up influences insulin affectability), or treatment with diabetes medications, for example, metformin.

The minor inflatable consumes with smoldering heat a portion of the covering of the digestive system.

Specialists embed a thin tube with the flattened silicon expand on the end down the patient's throat. When it achieves the duodenum — the foot-long piece of the digestive tract where a lot of our nourishment is processed — it is expanded and high temp water pumped through it.

As it is squeezed against the duodenum, the hot inflatable singes the encompassing tissue.

Called Revita, the gadget is as of now utilized for type 2 diabetes on the grounds that the consuming procedure, removal, consumes off cells which have turned out to be impervious to insulin.

This enables new cells to shape which are not insulin-safe. In diabetes, this implies glucose levels fall and flow enhances, decreasing the risks of stroke and heart assault. In PCOS, researchers trust, it will expand ovulation — the point in the menstrual cycle when an egg is discharged from the ovaries — and the odds of origination.

Endocrinologist Dr.Alex Miras, part of the team running the trial, says PCOS sufferers in the trial will be aged 18-45, have irregular periods and signs of insulin resistance but not diabetes.

Half will undergo the Revita treatment and the rest will think they’re having it done but no ablation will be carried out.

Doctors have also given their positive feedback on this research because this technique gives positive results in patients of Type II Diabetes, therefore it is being expected that in the patients of PCOS which have the problem of insulin resistance, they also give these positive results. In pregnancy rate and increase the fertility rate.


Friends hope this research can be successful and this technique came out as a new ray of hope in the lives of women with a PCOS. If you like this information, do not forget to share it.

No comments:

Post a Comment